Bibi-Ka-Makbara, Aurangabad

Aurangabad Caves, Aurangabad

Nasik Caves, Nasik

Ajanta Caves, Aurangabad

Ellora Caves, Aurangabad

Quila-I-Shakin, Daulatabad Fort, Aurangabad

खोजें

महाराष्ट्र 1953 के रूप में महत्वपूर्ण खोजों की सूची (वर्ष वार) आज तक के

वर्ष जिला स्थान खोजों के प्रकार
1953 - 54 जलगांव पाटन पाषाण युगीन संग्रह:- चालिसगांव से 10 मील की दूरी पर स्थित भवानी मंदिर के पास अभिलेख के निरीक्षण तथा रसायनिक क्रिया के पश्चात पुरातत्वीय रसायनविदों को मंदिर के समीप माएक्रोलिथ औजार प्राप्त हुये | ये औजार क़्वार्ट्ज़, चर्ट तथा जैसपर के बने हुये है |
1955 - 56 पूना भाजा दो गुफाओं की खोज: - श्री एम.एन. देशपाण्डे के द्वारा दो गुफाओं की खोज की गयी जिसमे एक चैत्य तथा दूसरा विहार है | यह अपूर्ण विहार वहां के प्रसिद्ध विहार गुफा से 200 यार्ड की दूरी पर पाया गया जिसा पर सूर्य तथा इंद्र के उल्लेख थे | चैत्य भी मंदिर से 200 यार्ड की दूरी पर पाया गया |
1955 - 56 औरंगाबाद अजंता नये गुफा की खोज :- श्री अब्दुल वहीद खान द्वारा 2सरी सदी के विहार की खोज की गयी
1956 - 57 सतारा नेर्ले ऐतिहासिक संग्रह:- डा. एम.एन.देशपांडे द्वारा काले एवं लाल भांड, तथा सातवाहन कालीन सिक्के प्राप्त हुये |
1956 - 57 मुम्बई मुम्बई पाषाणसंग्रह की खोज:- श्री जी.एस.मलिक द्वारा मुम्बई क्षेत्र की खुदाई की गयी तथा तीन स्तर के औजारखोजे गये |
1956 - 57 पूना खेड ऐतिहासिक स्थल:- - भिमा नदी के समीप डा. एस.बी.देव तथा श्री जेड .डी अंसारी द्वरा लाल मृदभाण्ड की खोज की गयी |
1956 - 57 पूना खेड पाषाण युगीन औजार का संग्रह:- डा. संकालिया तथा उनके दल द्वारा I तथा II स्तर के औजार खोजे गये |.
1956 - 57 पूना कार्ला पाषाण युगीन संग्रह:- कार्ला के बुद्ध गुफाओं के समीप श्री बी.बी.लाल तथा एम.एन. देशपांडे द्वारा एक ऐतिहासिक स्थल की खोज की गयी |
1956 - 57 सतारा करद पाषाण युगीन औजार का संग्रह:-:- श्री बी.बी.लाल तथा एम.एन. देशपांडे द्वारा कृष्णा घाटी तथा ताप्ति गुहा घाटी में रंगे हुये बर्तन मिले |
1956 - 57 पूना हामी ईंट मंदिर की खोज :- श्री के.आर. कापरे द्वारा ईंट मंदिर की खोज की गयी जो 7वीं शताब्दी के हैं |
1956 - 57 पूना खेड पाषाण युगीन औजार का संग्रह : डा. संकालिया तथा उनके दल द्वारा I तथा II स्तर के औजार खोजे गये |.
1956 - 57 पूना कार्ला पाषाण युगीन औजार का संग्रह : कार्ला के बुद्ध गुफाओं के समीप श्री बी.बी.लाल तथा एम.एन. देशपांडे द्वारा एक ऐतिहासिक स्थल की खोज की गयी |
1956 - 57 सतारा करड पाषाण युगीन औजार का संग्रह:- श्री बी.बी.लाल तथा एम.एन. देशपांडे द्वारा कृष्णा घाटी तथा ताप्ति गुहा घाटी में रंगे हुये बर्तन मिले |
1956 - 57 पूना हामी ईंट मंदिर की खोज :- श्री के.आर. कापरे द्वारा ईंट मंदिर की खोज की गयी जो 7वीं शताब्दी के हैं |
1956 - 57 अहमदनगर अहमद्नगर मध्य पाषाणकालीन स्थल: श्री बी.बी.लाल तथा एम.एन. देशपांडे द्वारा भारी संख्या में सूक्ष्म औजार प्राप्त हुये |
1957 - 58 औरंगाबाद पितलखोरा पृथक मूर्तिकला:- श्री एम.एन. देशपांडे द्वारा पितलखोरा घाटी के सफाई के दौरान प्राचीन बुद्ध गुफाओ सम्बंधी वास्तुकला के अननय विशेषतायें दृष्टिगत हुयी |
1957 - 58 नासिक पिम्पलदार ताम्रपाषाण कालीन स्थल: श्री एम.के. धवलिकर द्वारा पिम्पलदार के समीप ताम्रपाषाण कालीन रंगे हुये मृदभाड खोजे गये जो नासिक जोर्वे प्रकार के है |
1957 - 58 पूना कोरेगाव ताम्रपाषाण कालीन स्थल: डा. एच.डी. संकालिया तथा श्री ए.पी. खत्री द्वरा ताम्रपाषाण स्थल तथा नेवासा-जोर्वे मृद्भांड खोजे गये |
1957 - 58 ठाने कल्यान ऐतिहासिक स्थल:- उल्हास नदी के समीप ऐथासिक स्थल की खोज श्री एम.एन. देशपांडे द्वारा की गयी |
1957 - 58 पूना जुन्नर रोमन संग्रह:- - एच.डी. संकालिया , डा. एस.बी.देव तथा श्री जेड .डी अंसारी रोमन संग्रह की खोज की गयी |
1987 - 88 रायगढ

रायगढ

विविध संग्रह:-, - गंगासागर पोखर से गाद निकालने के क्रम मे इस औरंगाबाद मंडल के एन.एन.सिन्हा द्वारा शिवाजी कालीन कवच तथा ताम्बे के सिक्के प्राप्त हुये |
1987 - 88 रत्नागिरी राजापुर बिखरी मूर्तियां तथा सती पत्थर, - अर्जुन सिंचाई परियोजना के जलमग्न क्षेत्र के अध्यन के दौरान औरंगाबाद मंडल के श्री एम. महादेवय्या द्वारा 16 वीं तथा 18 वीं शताब्दी की महिष्मर्दिनी एवं सती पत्थर की खोज की गयी|
1987 - 88 औरंगाबाद रिटेलवाडी रॉक कट गुफा, - औरंगाबाद मंडल के श्री पी.एन. काम्बले द्वारा बेतालवडी में रॉक कट गुफा की खोज की गयी |
1987 - 88 अहमद्नगर वडगांव देवनागिरी शिलालेख,- औरंगाबाद मंडल द्वारा विठोबा तथा शिवा मंदिर के दो अभिलेख प्राप्त हुये |
1988 - 89 बीड कोलेगांव देवनागिरी शिलालेख,- औरंगाबाद मंडल के एस.एल.जाधव द्वारा 18वीं शताब्दी कालीन शिवा मंदिर का शिलालेख प्राप्त हुये |
1989 - 90 औरंगाबाद एलोरा चित्रकारी गुफा संख्या 12,- श्री पी.एन. काम्बले द्वारा गुफा संख्या 12 में अनेक चित्रकारी की खोज की गयी जो मुख्यत: लाल हरा तथा सफेद है |
1989 - 90 नागपुर मनसर शैल कैरेक्टर शिलालेख : नागपुर विश्वविद्यालय के प्राचीन इतिहास विभाग के श्री इस्माईल केल्लेलु द्वारा हिडिम्बची टेकडी के नजदीक शिलालेख की खोज की गयी
1989 - 90 नागपुर मनसर बिखरी मूर्तियां,- नागपुर विश्वविद्यालय के प्राचीन इतिहास विभाग द्वारा सातवाहन काल के सूर्य शिलालेख की खोज की गयी |
1989 - 90 भंडारा पौनी देवी लज्जा के सजीले टुकडे, - नागपुर विश्वविद्यालय के प्राचीन इतिहास विभाग द्वारा देवी लज्जा की मूर्ति के सजीले टुकडे प्राप्त हुये |
1990 - 91 अहमद्नगर धंधरफल देवनागिरी शिलालेख,- औरंगाबाद मंडल के श्री अजीत कुमार द्वारा धंदरफल गांव के समीप एक देवनागिरी शिलालेख की खोज की गयी |